Hemmano-Articles
शिक्षा

कौन हैं अलवर के इमरान खान जिनकी चर्चा स्वयं प्रधानमंत्री ने की थी

अलवर के इमरान खान

यह नाम मेरे कानों में पहली बार तब आया जब नरेंद्र मोदी जी ने 2015 में वेम्बली स्टेडियम, लंदन में इनका नाम लिया।

प्रधानमंत्री मोदी जी ने कहा कि – “मेरा भारत अलवर के इमरान खान में बसता है

कौन हैं इमरान खान :

अलवर के इमरान खान

मेरे मन में जिज्ञासा उत्पन्न हुई कि अलवर का ऐसा कौनसा व्यक्ति है कि जिसका नाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के जुबाँ पर आया है, मैंने जब गूगल पर सर्च किया तो मैं वास्तव में अचंभित रह गया क्योंकि इमरान खान नाम का यह शख्स संस्कृत विभाग में गणित का शिक्षक है और इन्होंने कोई कारनामा संस्कृत में नहीं किया है, हालाँकि शिक्षा के क्षेत्र में इन्होंने काफी अच्छा काम किया है और 80 से अधिक शैक्षणिक मोबाइल एप्स का निर्माण किया है,

अब हम और आप सोचेंगे कि यह कैसे मुमकिन है कि एक संस्कृत विभाग में अध्यापन करने वाला आदमी एप्स कैसे बना सकता है और वो इतनी सारी!

परन्तु यह सच है, चूँकि इनका बचपन से प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में वैज्ञानिक स्तर का काम करने का सपना था परंतु घर की हालत के कारण इन्होंने अध्यापक बनना जरुरी समझा क्योंकि शीघ्रता से नौकरी का विकल्प केवल यही था।

इमरान खान ने इंटरनेट का सदुपयोग किया और यूट्यूब, गूगल स्रोतों से उन्होंने मोबाइल एप्स बनाने, कोडिंग करनी सीखी, साथ ही साथ प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में गुड़गांव में काम कर रहे उनके छोटे भाई ने भी इनकी खूब मदद की, साथ ही साथ उचित प्रौद्योगिकी की पुस्तकों का भी अध्ययन किया।

2005 के अंदर इन्होंने General Knowledge Talks नामक अपनी वेबसाइट बनायी थी और इसके बाद अलवर के तत्कालीन जिला कलेक्टर ने उन्हें एप्स बनाने के लिए प्रोत्साहित किया।

‘जनरल साइंस इन हिंदी’ नाम का एप्प इमरान खान का सर्वाधिक डाउनलोड वाला एप्प है, अभी इनका दिशारी प्रोजेक्ट नाम से बनाया गया एप्प काफी प्रसिद्ध हो रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा उल्लेख: भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वेम्बली स्टेडियम, लंदन में अपने भाषण के दौरान खान के नाम का उल्लेख किया। “भारत में असहिष्णुता” के बारे में समाचार मीडिया में विभिन्न बहसों की पृष्ठभूमि में मोदी ने कहा कि भारत समाचार-सुर्ख़ियो के परे है, भारत उससे बहुत बड़ा है जो लोग दूरदर्शन में देखते है और “मेरा भारत अलवर के इमरान खान जैसे व्यक्तियों में रहता है”।

खान ने अपने “प्रयास” के लिए मोदी की प्रशंसा पर अपनी प्रसन्नता व्यक्त की। खान को जल्द ही भारत संचार निगम लिमिटेड से मुक्त इंटरनेट सेवा प्राप्त हो गई। मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्विट कर कहा की खान ने एक “अद्भुत कार्य” किया है। संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने खान को कॉल कर बधाई दी। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी ने खान को विकासशील अनुप्रयोगों के लिए सहायता आश्वासन दिया।

अलवर के इमरान खान के अचीवमेंट :

भामाशाह पुरस्कार :- 28 जून 2016 को राज्यस्तरीय भामाशाह पुरस्कार से सम्मानित किया गया (इनकी शैक्षिक एप्स का अनुमानित मूल्य तीन करोड़ 32 लाख रुपए है।)

Hemmano-Articles

◆ इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत NIELIT के तकनीकी सलाहकार बने


◆ राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार 2018 भारत के उपराष्ट्रपति के हाथों से दिया गया

Hemmano-Articles

◆ राष्ट्रीय आईसीटी पुरस्कार 2016 : भारत के राष्ट्रपति के हाथों से

◆ टेडएक्स टॉक : इमरान खान 17 मार्च 2018 को UIT ऑडिटोरियम, कोटा (राजस्थान) में TEDxRTU में स्पीकर के रूप में शामिल हुए।

Hemmano-Articles

◆ आई ए एस अकादमी में सम्बोधन : इमरान खान ने लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी मसूरी में आईएएस प्रशिक्षुओं के बीच विचार साझा किए और उन्हें संबाेधित किया।

Hemmano-Articles

इमरान खान का संघर्षशील जीवन प्रेरणादायी है, उन्होंने करोड़ो राजस्थानियों,भारतवासियों को गौरवान्वित किया है, इमरान खान ने जिस तरह संसाधनों के अभाव में भी विद्यार्थियों की सेवा जारी रखी वह इसके लिए बधाई के पात्र हैं, ऐसे व्यक्ति को सलाम।

कमेंट लिखें