फ़िल्में

विद्या सिन्हा : बीते हुए कल की कुछ यादें
फिल्मी जगत

विद्या सिन्हा : बीते हुए कल की कुछ यादें

अपने समय की महत्वपूर्ण अभिनेत्री विद्या सिन्हा इस दुनिया को पिछले साल अलविदा कह गई थी। विद्या सिन्हा की जिंदगी अभिनय के मर्म की तलाश थी। एक बेकल आत्मा की जिंदगी थी। विद्या सिन्हा ने चमचमाती हुई स्टारडम वाली फिल्मों में अभिनय नहीं किया। वह उनके लिए आसान रास्ता था क्योंकि वह फिल्म वितरक पिता […]

सच होती मैट्रिक्स की कल्पना
फिल्मी जगत

सच होती मैट्रिक्स की कल्पना?

सच होती मैट्रिक्स की कल्पना? हम अक्सर कहते हैं कि फिल्में समाज का आईना होती हैं लेकिन किस हद तक? अगर कोई फ़िल्म कॉमेडी जेनर है तो हम कह सकते हैं कि इस तरह का रियल लाइफ में कुछ भी नहीं होता लेकिन अगर वही साइंस फिक्शन हो तो क्या वह होना सम्भव नहीं है? […]

आखिर क्या हुआ था उस रात अमिताभ और रेखा के बीच?
फिल्मी जगत

आखिर क्या हुआ था उस रात अमिताभ और रेखा के बीच?

आखिर क्या हुआ था उस रात अमिताभ और रेखा के बीच?   अमिताभ रेखा एक ऐसा रिश्ता है जिस पर आजतक हजारों कहानियां लिखी जा चुकी लेकिन पुख्ता होने का ठप्पा किसी पर भी नहीं लग पाया। प्यार का एक ऐसा सिलसिला जो दुनिया की नजरों से छुपते-बचाते आखिर सिलसिला फ़िल्म पर जाकर खत्म हुआ। […]

12-angry-men-hindi-review
फिल्मी जगत

12 Angry Men :

  अच्छी फ़िल्में अच्छी किताबों पर भारी होती हैं, लेकिन विश्व फिल्म इतिहास में ऐसी फिल्मों की संख्या कम है। 12 Angry Men  : हिंदी समीक्षा: दुनियाभर में तमाम तरह की फिल्में बनती हैं, अलग अलग जगहों पर जाकर शूटिंग, गानों-गाड़ियों यहाँ तक कि हवाईजहाज और हेलीकॉप्टर उपयोग लेने से भी नहीं चूकते। हॉलीवुड फिल्में […]

नितीश भारद्वाज : क्यों बॉलीवुड में सफल नहीं हो पाए महाभारत के 'श्री कृष्ण' 
फिल्मी जगत

नितीश भारद्वाज : क्यों बॉलीवुड में सफल नहीं हो पाए महाभारत के ‘श्री कृष्ण’ ?

क्यों बॉलीवुड में सफल नहीं हो पाए महाभारत के ‘श्री कृष्ण’  नितीश भारद्वाज  दूरदर्शन अब जब टीआरपी के रिकॉर्ड तोड़ रहा है और इस पर आने वाले पुराने कार्यक्रम इतने ज्यादा मशहूर हो रहे हैं जितने वे पहले भी नहीं थे तो अकस्मात कुछ प्रश्न हमारे मन में उठ जाते हैं कि जब ये कार्यक्रम […]

काफ़िरों की नमाज़ : फिल्म रिव्यु : Hemmano Guest Column
फिल्मी जगत

काफ़िरों की नमाज़ (2016) : फिल्म रिव्यु : Hemmano Guest Column

काफ़िरों की नमाज़ इस फिल्म को देखने का मन भी करे तो पहले नीचे लिखी बातों पर गौर कर लीजिएगा :- 1. आपमें बहुत सारा धैर्य हो इस बात की ये फिल्म आपसे पुरजोर माँग करती है । 2. आप जजमेंटल होकर ये फिल्म कभी नहीं देख पाओगे । क्या सही , क्या गलत इन […]

अजीब दास्तां है ये : मीना कुमारी : Hemmano Guest Column
फिल्मी जगत

अजीब दास्तां है ये : मीना कुमारी : Hemmano Guest Column

मीना कुमारी : अजीब दास्तां है ये मीना कुमारी हिंदी सिनेमा की अप्रतिम अभिनेत्री रही हैं। मीना कुमारी की शख्सियत उनके लिखे से भी बनती है। मीना कुमारी के अभिनय का मुरीद तो पूरा भारत रहा है। गहरी भरी-भरी आंखे, जैसे छलकते दो जाम। संवाद अदायगी का अपना अलहदा अंदाज ही उन्हें विशेष अदाकाराबनाता है। […]

द लंचबॉक्स : फिल्म समीक्षा
फिल्मी जगत

द लंचबॉक्स : फिल्म समीक्षा : Hemmano Guest Column

द लंचबॉक्स   डियर ईला,द फूड वॉज सॉल्टी टूडे।   बेहतरीन फिल्मों में एक अलग तरह की खूबसूरती होती है और उसी प्रकार की खूबसूरती नजर आती है 2013 में रिलीज हुई रितेश बत्रा निर्देशित मूवी “द लंचबॉक्स” में। मारधाड़, शोर-शराबे और चकाचौंध से दूर ये फिल्म बेहद शांत और शालीन है। ये फिल्म जीवन […]

तुम्बाड hindi review
फिल्मी जगत

सिनेमाई खज़ाने की चाबी है ‘तुम्बाड़’ – Hemmano Guest Article

– दीपक दुआ (Featured in IMDb Critic Reviews) तुम्बाड़ ‘दुनिया में हर एक की ज़रूरत पूरी करने का सामान है, लेकिन  किसी का लालच पूरा करने का नहीं।’  महात्मा गांधी के इस कथन से शुरू होने वाली यह फिल्म अपने पहले ही सीन से आपको एक ऐसी अनोखी दुनिया में ले चलती है जो इससे […]

seven-years-in-tibet-movie-review
फिल्मी जगत

Seven Years in Tibet : तिब्बत का प्रेम और दर्द

Seven Years in Tibet : हिंदी  समीक्षा दुनिया की छत जब राजनीति के कारण गिर रही थी वर्ष 1939 की बात है जब एक जर्मन पर्वतारोही हेनरिक हेरर (मूलतः ऑस्ट्रिया के) ने तत्कालीन ब्रिटिश भारत के नँगा पर्वत (वर्तमान पाकिस्तान में) की चोटी पर पहुंचने के लिए कोशिश की थी, हालांकि बीच रास्ते में ही […]