भारत और वाद-विवाद की संस्कृति
दर्शन

भारत और वाद-विवाद की संस्कृति

भारत और वाद-विवाद की संस्कृति सहमति और असहमति पारस्परिक संवाद के मुख्य पहलू होते हैं, इंसानी जीवन में हरेक चीज़, घटना या परिस्थिति को देखने, समझने या अपनी राय व्यक्त करने के लिए कई तरीके होते हैं। शारीरिक विवादों की बजाय सदैव मौखिक विवाद सारपूर्ण होते हैं. जब कोई सहमत नहीं होता है या अपनी […]

हिन्दू कौन है?
दर्शन

हिन्दू कौन है? – देवदत्त पटनायक

हिन्दू कौन है? : देवदत्त पटनायक महाकाव्य महाभारत के अनुसार जब द्रौपदी अपने पिता की यज्ञशाला की अग्नि से पैदा हुई थी, तो वह अपने आप में सम्पूर्ण थी। उसका कोई बचपन नहीं बीता, उसका कोई लालन-पालन नहीं हुआ। वह जिस दिन पैदा हुई उसी दिन से शादी करने लायक हो गई और अपने भाग्य में लिखे […]

सहिष्णुता, असहिष्णुता और स्वीकृति : स्वामी विवेकानन्द के विचार : Dr. Jeffery D Long
दर्शन

सहिष्णुता, असहिष्णुता और स्वीकृति : स्वामी विवेकानन्द के विचार : Dr. Jeffery D Long

सहिष्णुता, असहिष्णुता और स्वीकृति – स्वामी विवेकानन्द के विचार जेफरी डी. लॉन्ग, सहिष्णुता और असहिष्णुता के विषय पर स्वामी विवेकानन्द ने दुनिया को जो कहा, क्या उस विद्वान संत की कही बातें वर्तमान समय में भी प्रासंगिक है? इस प्रश्न का उत्तर देना बहुत ज्यादा कठिन नहीं लगता, क्योंकि उन्होंने इस विषय पर सार्वजनिक रूप […]