समसामयिक मुद्दों पर लेख

Hemmano-Articles
समसामयिक

मशीनीकरण का युग इंसान के लिए खतरा?

मशीनीकरण का युग इंसान के लिए खतरा? देश-दुनिया में मशीनों के प्रति बढ़ता लगाव और आदमी की पराधीनता मनुष्य के भविष्य को संकट में डाल रही है। खेतों से लेकर कारखानों तक हर क्षेत्र में 100 आदमियों की जगह एक रोबोट या एक  मशीन प्रतिस्थापित हो गई है। समय और सुलभता की माँग काम करने […]

युद्ध या शान्ति? क्या है आपका चुनाव? : Hemmano Guest Column
समसामयिक

युद्ध या शान्ति? क्या है आपका चुनाव? : Hemmano Guest Column

युद्ध या शान्ति? क्या है आपका चुनाव? दुनिया ईसा मसीह के जन्म के बाद से अब 21वीं सदी में पहुँच गयी है, ईसा के जन्म से पहले भी दुनिया का बहुत बड़ा इतिहास था लेकिन पूरा कत्लों, युद्धों, लड़ाइयों से भरा हुआ. बुद्धकाल के बाद से ही बेहद उम्मीद थी कि संसार में क्षीण होती […]

क्या टिकटोक हमेशा के लिए बंद हो गया है?
समसामयिक

क्या टिकटोक हमेशा के लिए बंद हो गया है?

क्या टिकटोक हमेशा के लिए बंद हो गया है? 29 जून 2020 की शाम को जैसे ही भारत सरकार द्वारा टिकटोक सहित 59 मोबाइल एप्लीकेशन को प्रतिबंधित करने की खबर आई यह बात जंगल में आग की तरह फ़ैल गयी. अधिक फोल्लोवर्स वाले यूजर्स के पाँवों तले तो जैसे जमीन ही खिसक गयी थी. जो […]

भारत और नेपाल के बीच गहराती खाई
समसामयिक

भारत और नेपाल के बीच गहराती खाई

भारत और नेपाल के बीच सीमा पर तनातनी लगातार बढ़ती ही जा रही है, 12 जून को हुई गोलीबारी में एक भारतीय नागरिक की मृत्यु हो गयी और 2 लोग घायल हो गए. अब नेपाल के एफएम चैनल्स पर भारत विरोधी गाने बज रहे हैं जो कि भारत के उत्तराखंड में भी सुनाई दे रहे […]

भारत में सांप्रदायिक सद्भाव
समसामयिक

राष्ट्रीय एकीकरण व साम्प्रदायिकता

      रूपरेखा प्रस्तावना, राष्ट्रीय एकीकरण की परिभाषा, साम्प्रदायिकता से आशय व खतरे, साम्प्रदायिकता बढ़ने के कारण, राष्ट्रीय एकीकरण में बाधक तत्व, वर्तमान में राष्ट्रीय एकीकरण व साम्प्रदायिक सद्भावना की महती आवश्यकता, साम्प्रदायिक सद्भाव के उदाहरण, राष्ट्रीय एकीकरण एवं साम्प्रदायिक सौहार्द्र बढाने के उपाय, उपसंहार – प्रस्तावना– वर्तमान में राष्ट्रीय एकता व साम्प्रदायिक सौहार्द्र […]

कोरोना के बाद कृषि क्षेत्र: उम्मीद और जरूरत: Hemmano Guest Column
समसामयिक

कोरोना के बाद कृषि क्षेत्र: उम्मीद और जरूरत- Hemmano Guest Column

कोरोना के बाद कृषि क्षेत्र: उम्मीद और जरूरत     कोरोना संकट के बाद देश की बदहाल अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए  गांधी के ग्राम स्वराज को आधार बनाकर ग्राम आधारित आर्थिक व्यवस्था को सुदृढ़ किए जाने की जरूरत है। भारत जैसी बड़ी आबादी वाले देश  में आज भी कृषि क्षेत्र ही आधी से […]

सोनू सूद भारत के ओस्कर शिंडलर
समसामयिक

क्या सोनू सूद हैं भारत के ओस्कर शिंडलर?

सोनू सूद भारत के ओस्कर शिंडलर भारत के मजदूरों का पलायन इस सदी की एक बड़ी त्रासदी है, चुनाव के वक़्त जिन्हें केवल वोटर के रूप में देखा जाता है और उनकी जरुरत के समय उनसे मुँह फेर कर उन पर लिखी कविताओं पर वाह-वाह किया जाता है. Lockdown के सबसे विकट समय में जब […]

क्यों सबसे अलग राजनेता हैं जस्टिन ट्रूडो
समसामयिक

क्यों सबसे अलग राजनेता हैं जस्टिन ट्रूडो

क्यों सबसे अलग राजनेता हैं जस्टिन ट्रूडो जस्टिन ट्रूडो जो कि कनाडा के भूतपूर्व प्रधानमंत्री पियर ट्रुडो के पुत्र हैं और वर्तमान में स्वयं कनाडा के प्रधानमंत्री हैं. जस्टिन ट्रूडो इस वर्ष 2020 में तब वैश्विक चर्चा में आये जब उनकी पत्नी को covid-19 हुआ था और उन्होंने भी खुद को आइसोलेट किया था. जस्टिन […]

क्या तियानमेन चौक करेगा चीन में तख्तापलट?
समसामयिक

क्या तियानमेन चौक करेगा चीन में तख्तापलट?

क्या तियानमेन चौक करेगा चीन में तख्तापलट? कहते हैं कि महान शक्ति के साथ महान जिम्मेदारी आती है, चीन भी एक विश्व महाशक्ति है। 1 अक्टूबर 1949 को जब चीन में साम्यवादी सरकार ने चीन को स्वतंत्र गणराज्य स्थापित कर दिया था तो चीन के इस साम्यवादी लोकतंत्र से संसार के विभिन्न देशों और दूसरी […]

गांवों से ही गुजरता है आत्मनिर्भरता का रास्ता : Hemmano Guest Column : मदन गोपाल लढा [2020]
समसामयिक

गांवों से ही गुजरता है आत्मनिर्भरता का रास्ता : Hemmano Guest Column : मदन गोपाल लढ़ा [2020]

गांवों से ही गुजरता है आत्मनिर्भरता का रास्ता ग्रामीण समाज भारतीय अर्थव्यवस्था का आधार है। यह बात हजारों-लाखों बार कही-सुनी जा चुकी है कि भारत गांवों का देश है अथवा देश की आत्मा गांवों में बसती है। आज भी देश की करीब सत्तर फ़ीसदी आबादी गांवों में ही रहती है। इसके साथ यह भी बड़ा […]