क्या टिकटोक हमेशा के लिए बंद हो गया है?
समसामयिक

क्या टिकटोक हमेशा के लिए बंद हो गया है?

क्या टिकटोक हमेशा के लिए बंद हो गया है? 29 जून 2020 की शाम को जैसे ही भारत सरकार द्वारा टिकटोक सहित 59 मोबाइल एप्लीकेशन को प्रतिबंधित करने की खबर आई यह बात जंगल में आग की तरह फ़ैल गयी. अधिक फोल्लोवर्स वाले यूजर्स के पाँवों तले तो जैसे जमीन ही खिसक गयी थी. जो […]

एक फौजी का पत्र 1918
इतिहास

माँ, यहाँ कोई खतरा नहीं है : एक फौजी का पत्र 1918

एक फौजी का पत्र 31 अक्टूबर, 1918 को प्रथम विश्व युद्ध अंत के करीब था तब  युद्ध के कवि और द्वितीय मेनचेस्टर रेजिमेंट के अधिकारी विल्फ्रेड ओवन ने अपनी मां को पत्र लिखा। अफसोस की बात है कि यह उनका आखिरी पत्र था। चार दिन बाद ही ओवेन की गोली मारकर हत्या कर दी गई। […]

हिंदी और अंग्रेजी माध्यम का भेद धरातल पर: Hemmano Guest Column
शिक्षा

हिंदी और अंग्रेजी माध्यम का भेद धरातल पर: Hemmano Guest Column

हिंदी और अंग्रेजी माध्यम का भेद धरातल पर वो किसी से बात नहीं करता। क्लास में भी चुपचाप बैठा रहता है हमने कल साथ आने का बोला था, मना कर दिया अजीब इंसान है ना?  इवन आई नेवर सीन हिम टॉकिंग् विथ ऐनीवन (मैंने भी उसे कभी किसी के साथ बात करते नहीं देखा) ऐसी […]

किताबें क्यों जरुरी है?
प्रश्नोत्तरी 

किताबें क्यों जरुरी है?

किताबें क्यों जरुरी है? बाकी जानवरों से इंसान क्यों आगे है? क्योंकि इंसान बोलना, पढना और लिखना जानता है और लगातार खुद में सुधार करना जानता है. इंसानी इतिहास में संज्ञानात्मक क्रांति सबसे बड़ी क्रांति थी जिसमें इंसान सोचने समझने और उसे प्रयोगिक दृष्टि से काम करने की शक्ति विकसित की। खाद्य और संज्ञानात्मक क्रान्ति […]

भारत और नेपाल के बीच गहराती खाई
समसामयिक

भारत और नेपाल के बीच गहराती खाई

भारत और नेपाल के बीच सीमा पर तनातनी लगातार बढ़ती ही जा रही है, 12 जून को हुई गोलीबारी में एक भारतीय नागरिक की मृत्यु हो गयी और 2 लोग घायल हो गए. अब नेपाल के एफएम चैनल्स पर भारत विरोधी गाने बज रहे हैं जो कि भारत के उत्तराखंड में भी सुनाई दे रहे […]

क्या महात्मा गांधी अंग्रेजों से नफरत करते थे?
इतिहास

क्या महात्मा गांधी अंग्रेजों से नफरत करते थे?

क्या महात्मा गांधी अंग्रेजों से नफरत करते थे? महात्मा गांधी के बारे में काफी तथ्य प्रचलित हैं जिनमें से एक है कि वे खुद को प्राप्त होने वाले हर पत्र का प्रत्युत्तर देने की पूरी कोशिश करते थे. ऐसा ही एक रोचक पत्र गांधी जी को मिला जिसमें फ्रेड कैम्पबेल नाम के व्यक्ति ने उनसे […]

कौन थे मेजर शैतान सिंह जिनके नाम से आज भी चीन कांपता है?
इतिहास

कौन थे मेजर शैतान सिंह जिनके नाम से चीन आज भी कांपता है

कौन थे मेजर शैतान सिंह जिनके नाम से चीन आज भी कांपता है     “सुबह के ठीक सवा आठ बजे मेजर साहब ने प्राण दे दिए। मैंने उनके हाथ पर बंधी घड़ी को देखा। वो सवा आठ पर रुक गई थी। वो घड़ी उनकी नब्ज से चलती थी।” ये कहना है सूबेदार रामचन्द्र यादव […]

एशिया का डेनमार्क
संस्कृति

एशिया का डेनमार्क : Hemmano Guest Column

एशिया का डेनमार्क एक वक्त था जब मेरे इलाके लूणकरणसर को एशिया का डेनमार्क कहा जाता था। इस दावे में सच्चाई तो कितनी थी पता नहीं, लेकिन मुझ जैसे जवान होते लड़कों के लिए ये एक रोमांचक तथ्य था कि मेरा इलाका पशुधन और दुग्ध उत्पादन के मामले में इतना समृद्ध है कि उसकी तुलना […]

भारत में सांप्रदायिक सद्भाव
समसामयिक

राष्ट्रीय एकीकरण व साम्प्रदायिकता

      रूपरेखा प्रस्तावना, राष्ट्रीय एकीकरण की परिभाषा, साम्प्रदायिकता से आशय व खतरे, साम्प्रदायिकता बढ़ने के कारण, राष्ट्रीय एकीकरण में बाधक तत्व, वर्तमान में राष्ट्रीय एकीकरण व साम्प्रदायिक सद्भावना की महती आवश्यकता, साम्प्रदायिक सद्भाव के उदाहरण, राष्ट्रीय एकीकरण एवं साम्प्रदायिक सौहार्द्र बढाने के उपाय, उपसंहार – प्रस्तावना– वर्तमान में राष्ट्रीय एकता व साम्प्रदायिक सौहार्द्र […]

पुलिस वाले
अन्य

पुलिस के प्रति आपका नजरिया

पुलिस की ज़िंदगी कठिन ज़िन्दगी है, जिसमें उसे बहुत त्याग करने पड़ते हैं, समाज से घृणा भी झेलनी पड़ती है, राजनेताओं और बड़े अफसरों से बेइज्जत होना पड़ता है उनकी गुलामी करनी पड़ती है। हालांकि पुलिस का होना समाज में सुरक्षा की आशा का होना है, इसी वजह से हर फ़िक्र से बेफिक्र होकर हम […]